Prayers and Hymns

Oh! God who are truth and origin of all knowledge bless
our studies which we consencrate to you Enlighten our minds,
strength on our memories and direct our wills towards what is right
and save us from all dangers grant us to seek the truth always and make us truly wise.

Lead, Kindly Light, amidst th'encircling gloom,
Lead Thou me on!
The night is dark, and I am far from home,
Lead Thou me on!
Keep Thou my feet; I do not ask to see
The distant scene; one step enough for me.

इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमज़ोर हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमज़ोर हो ना
हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
भूलकर भी कोई भूल हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमज़ोर हो ना
हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
भूलकर भी कोई भूल हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमज़ोर हो ना
दूर अज्ञान के हों अंधेरे
तू हमें ज्ञान की रोशनी दे
हर बुराई से बचते रहें हम
जितनी भी दे भली ज़िन्दगी दे
बैर हो ना किसी का किसी से
भावना मन में बदले की हो ना
हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
भूलकर भी कोई भूल हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमज़ोर हो ना
हम ना सोचें हमें क्या मिला है
हम ये सोचे किया क्या है अर्पण
फूल खुशियों के बाँटे सभी को
सब का जीवन ही बन जाए मधुबन
अपनी करुणा का जल तू बहा के
कर दे पावन हर एक मन का कोना
हम चलें नेक रस्ते पे हमसे
भूलकर भी कोई भूल हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमज़ोर हो ना

हम ज्योति से त्योति जलाये
प्रभु जी हमारे दिल में तुमने प्रेम का दीप जलाया
प्रभु जी हमारे दिल में तुमने प्रेम का दीप जलाया
तम से भरी-जगति को तुमने दिव्य प्रकाश दिखाया ।|
प्रभु जी ........
ऐसी कूपा कर देना न बुझे ये दीप हमारा
प्रभ्मय जगति हो जाये यही संकल्प हमारा ।।
प्रभु जी .........
-- ज्योति से ज्योति जलायें तेरी ज्योति -फैलायें
-- ही-ज्योतिर्मय-प्रभु तुम ही कण-कण में समाये ।।
प्रभु जी .........
कसी नजरें कर देना, राह में हम भटके न
- ही तो मंजिल मेरी हमराही-तू ही-रहना ।।
प्रभु जी .........

स्वर्ग धाम के पिता हमारे
आये हम बालक तेरे
पावन है प्रभु नाम तेरा, पावन - पावन
परिपावन
हम पर होवे शासन तेरा, तेरा हो शासन ।
स्वर्ग में जैसे तेरी इच्छा, धरा पर भी खिले
हर दिन का आहार हमारा -2
सदा हम को मिलें.....
जैसे हम करते माफ औरों को
हमें भी माफी मिले
बुराई से बचाने हरदम -2
तेरी शरण मिले
स्वर्ग धाम......

हे पिता हमारे स्नेही पिता,
तू विराजता है स्वर्गधरा,
तेरा नाम पावन होवे
तेरा राज्य जग में छाये
तेरी मर्जी पूरी होवे ।
दिन का आहार देना,
प्रभु पाप क्षमा कर देना,
जो करते है हम औरों से ।
ना परीक्षा हम दुर्बल हैं |।
बुराई से हम निर्बल है
हमारे स्नेही पिता -2

वन्दे मातरम्
सुजलां सुफलां मलयजशीतलाम्
शस्य श्यामलां मातरं.
शुभ्र ज्योत्स्न पुलकित यामिनीम
फुल्ल कुसुमित द्रुमदलशोभिनीम्,
सुहासिनीं सुमधुर भाषिणीम्.
सुखदां वरदां मातरम् .. वन्दे मातरम्

  • e-Care PANEL
                                     © 2020 Bhilai Public Secondary School Maroda, Bhilai, Durg, C.G.. All Rights Reserved. Designed & Maintained by : smarteducations